Sunday, October 21, 2012


"गोरख पाण्डेय " की लिखी एक बेमिसाल कविता--


जरूरी कविता


सोचो तो
मामूली तौर पर
जो अनाज उगाते हैं
उन्हें दो जून अन्न
ज़रूर मिलना चाहिए
उनके पास कपडे
ज़रूर होने चाहिए
जो उन्हें बुनते हैं
और उन्हें प्यार मिलना ही चाहिए
जो प्यार करते हैं
मगर सोचो तो
यह भी कितना अजीब है कि
उगाने वाले
भूखें रहते हैं
और उन्हें पचा जाते हैं,
चूहे
और बिस्तरों पर पड़े रहने वाले लोग
बुनकर फटे चीथडों में रहते हैं,
और अच्छे से अच्छे कपडे
प्लास्टिक की मूर्तियाँ पहने होती हैं
गरीबी में
प्यार भी नफरत करता हैं
और पैसा
नफरत को भी
प्यार में बदल देता है.

गोरख पांडेय

Thursday, May 13, 2010

"जेठ की सुबह"

1.मंजिल की ...
 ना रही
अब  जुस्तजू
मुझको....


राह-ए-संगदिल....
आप सा मिल गया है ,
अब तो...


2.सुबह की राह्जोई है
 रात...



मरी नहीं...


बस सोई है
 रात...

3.पर ...

किसी किसी की रात,
ऐसे सो जाती है..

कि.....
सपने भी सो जाते हैं,

और  बस ...
जेठ की सुबह ही
हिस्से में आती है...

Monday, December 28, 2009

"चांदनी के भ्रम में "

चाँद को अपना समझ..
गलत आवाज़ दे बैठा,
चांदनी के भ्रम में.

उसके पास भी उधार है
वो तो ...
सूरज से ले रखी है,
इस जनम के लिए.

Tuesday, August 18, 2009

~"वीसा" की डोर से बंधी~

वो आई थी

एक बार फ़िर ,

मियाद बढ़वाने

मेरे भारत महान में ,

लोकशाही की साँसों की....

"आमार सोनार " से तो

उसका मोह टूट गया था ,

पर "गीता" की कर्मभूमि में

वो ढूढती है आ-आ कर ,

आज भी अपनों को ?

पर "वीसा" के डोर से बंधी

ये सांसे भी अब टूटने वाली है,

अधिकारों की बातें करता

संविधान अपना ,

लगता अब जाली है ....

Monday, December 29, 2008

"उम्मीद की सेंक"

रात रोज आती ...
जोगी का फेरा लगाती,
सिरहाने ...
सपनो के दीप जलाती,
तकिए के पास ....
उम्मीद की सेंक सुलगा,
नई सुबह की ...
आश जगा जाती.

Friday, July 18, 2008

"लगन "

चाँदी के तारों-सी लहरे
और रेशम-सा मन ,
भोर का तारा एक जुलाहा
सपने बुनने की लगन ...

Friday, March 14, 2008

"कुछ यूं ही ..."

1.उन कदमों तले आज सभ्यता कसमसा रही थी,
वो पापा के साथ काकटेल पार्टी में जा रही थी..

----इन पंक्तियों में मैंने 'बेटी' या 'पिता' के माध्यम से लिंग विशेष के उपर दोषारोपण नहीं किया है.. इनके माध्यम से आधुनिकता के दौर में ह्रास होते सामाजिक पारिवारिक मूल्यों की और इंगित किया है .. लिंग भेद से जोड़कर इसे ना देखे ... यहाँ प्रतीक में बेटी की जगह बेटा और मां या पिता कोई भी हो सकता है...

2.सारी रात 'दिया' जलता रहा उसकी रोशनी का लिए ,
और वो दीवानावार था जुगनुओं की चांदनी के लिए...