Tuesday, June 12, 2007

अज्ञॆय जी की एक अनोखी रचना से मैं रू-बरू हुआ आज.....
-----------------------------------------------------------------

सो रहा है झोंप अंधियारा नदी की जांघ पर
डाह से सिहरी हुयी वह चॉदनी
चोर पैरों से उलझकर झांक जाती है.

प्रस्फ़ुटन के दो क्षणो का मोल शेफ़ाली
विजय की धूल पर चुपचाप
अपने मुग्ध प्राणों से
अजाने ऑक जाती है.

6 comments:

sunita (shanoo) said...

रचना बहुत सुंदर है...भाव अत्यंत गूढ़ है...
आप भी तो बहुत अच्छा लिखते है,

सुनीता(शानू)

Swati said...

daah se sihri hui chaandni...chaandni se sheetal kuch nahi aur use bhi daah...chor pairon se aana to khub suna tha lekin yahaan ulajhna...waah! agyeyji ke yahi chote se shabdoon ka khel bada sundar aur majedaar hota hai...

Doc saab, thanks for this...aaj ka din bahut sundar jaayega ab..raatri ke tisre prahar main aise chor pairon me ulajhker is kavita ko smaraN kar jaa rahi hun...

Shukriya,
swati

Teri Meri Baatein said...

Bahut hi sundar, shabd aur bhav, bahut achha laga padhkar, dhanyawad !!

anita said...

u have written very nicely......anita

Gita ( Shamaa) said...

डाह से सिहरी हुयी वह चॉदनी
चोर पैरों से उलझकर झांक जाती है.

wah.......
bahut sundar rachna se
roobaroo karaayaa..dost...

dhanyavaad

s-snah
gita pandit

shobha said...

अग्येय जी की रचना जो पढ़ता और समझता है वह निश्चय हीआपकी रचना में भी कम प्रभाव नहीं । बधाई स्वीकारें सम्मान का अधिकारी है ।