Friday, March 14, 2008

"कुछ यूं ही ..."

1.उन कदमों तले आज सभ्यता कसमसा रही थी,
वो पापा के साथ काकटेल पार्टी में जा रही थी..

----इन पंक्तियों में मैंने 'बेटी' या 'पिता' के माध्यम से लिंग विशेष के उपर दोषारोपण नहीं किया है.. इनके माध्यम से आधुनिकता के दौर में ह्रास होते सामाजिक पारिवारिक मूल्यों की और इंगित किया है .. लिंग भेद से जोड़कर इसे ना देखे ... यहाँ प्रतीक में बेटी की जगह बेटा और मां या पिता कोई भी हो सकता है...

2.सारी रात 'दिया' जलता रहा उसकी रोशनी का लिए ,
और वो दीवानावार था जुगनुओं की चांदनी के लिए...

11 comments:

mahen said...
This comment has been removed by a blog administrator.
Amma said...

आपकी इन चाँद पंक्तियों ने बहुत कुछ कह दिया हैं
परिवेश की व्याख्या बस समझ मैं आ जाने की बात हैं
बहुत सही.........

Amma said...

आपकी इन चाँद पंक्तियों ने बहुत कुछ कह दिया हैं
परिवेश की व्याख्या बस समझ मैं आ जाने की बात हैं
बहुत सही.........

सतपाल said...

Sir,

I have started blog on ghazal. If you are poet and writing ghazals in meters then you pls send us your five ghazals in uni. hindi and your photograph and brief introduction and dont forget to mention the behers in which ghazal is written this will help new poets to learn about ghazal and its technique.You spread this blog to all readers and if you are intereted in poetry you read ghazals and leave your valuable comment. Pls help me to serve hindi.. our national language and spread this blog and tell your friend to visit this link and here is the link:

http://aajkeeghazal.blogspot.com/

I am waiting for your suggestion you can write me on satpalg.bhatia@gmail.com

Thanks


Sat Pal

DR.ANURAG ARYA said...

aapne sab kuch kah diya ramji..

pearl neelima said...

wow...very nice lines...

Neelima G said...

doctor saheb ab to kuch naya liki=hiye, bahut din hua...

Ruchi Singh said...

आपकी भी बहुत अच्छा लिखते है

ilesh said...

wah nice work.....

Akshaya-mann said...

kis tarahan chotil hue hain naye jamane ki maar se aapne bakhubi samjhaya hai bahut accha...
और वो दीवानावार था जुगनुओं की चांदनी के लिए
maja aa gaya

Advocate Rashmi saurana said...

kya baat hai. bhut badhiya.