Sunday, April 29, 2007

' एक यात्रा'

ज़िंदगी
एक अनवरत यात्रा है,
उसकी हर गाली
हर मोड़ पर
एक स्पंदन है.
जिसको महसूस करना ही
जीवन है.
मौत सबकी
एक ही होती है,
किस तरह
तय किया ये सफ़र
वही तेरी मेरी उसकी
अलग बात है.
बस निकल पड़े है
यायावर की तरह
इसमें कुछ सिखने की
क्या बात है.

8 comments:

रंजू said...

बहुत ही सुंदर और एक सच है यह

जीवन है.
मौत सबकी
एक ही होती है,
किस तरह
तय किया ये सफ़र
वही तेरी मेरी उसकी
अलग बात है.

RATIONAL RELATIVITY said...

Hansa:
I checked your blog....the thoughts are beautiful...but...you need to be more precise...and should make it more elaborate.....some of the lines are really beautiful specially in ek yatra...loved it...

RATIONAL RELATIVITY said...

ऱंजू जी और हंसा जी को बहुत-बहुत धन्यवाद.

Gita ( Shamaa) said...

saaree kavitaa hee
jeevan yaataraa kaa
bahut sundar chitra
khinch detee hai...

padkar achha lagaa...
doc saahab
badhaaee

Keerti Vaidya said...

mujhe apki yeh kavita bhut pasand hai..kabhi kabhi fursat mein iske shabdo ko yaad karti aur mehsoos karti hun.....

Keerti Vaidya said...

mujhe apki yeh kavita bhut pasand hai..kabhi kabhi fursat mein iske shabdo ko yaad karti aur mehsoos karti hun.....

meeta said...

किस तरह
तय किया ये सफ़र
वही तेरी मेरी उसकी
अलग बात है.
:
nice flow of words....

Sant Sharma said...

Behtar rachna, Jivan ki bahut hi sahaj avm sundar avivyakti