Tuesday, January 1, 2008

"विजयी होगा अभिमन्यु"

गत वर्ष हिंदी अंतर्जाल की एक पत्रिका में मैंने यह कविता लिखी थी .. आज नए वर्ष की नई चुनौतियों से रू-बरू होने पर इन पंक्तियों की फिर याद आयी .....


हर मोड़ पर
उलझा
अभिमन्यु मरता है
रोज़.

उम्र के साथ
बुज़ुर्ग हो गये हैं भीष्म,
बातें आदर्श की
निष्ठा की,
पर साथ
दुर्योधन का
शकुनी का,
जिनकी गिरफ़्त में है
सारा धर्म, ये समाज।

गद्दी पर आसीन
जरासंध
धृतराष्ट्र,
मत करो अब
कृष्ण का इन्तजार।

अभिमन्यु ही तोड़ सकता है,
ये चक्रव्यहू,
धर्म के ठेकेदारों का
इन्द्रजाल
धर्म के महाभारत का।

मुट्ठी भर पांडव
बिखरे बन्द महलों में,
करते कॄष्ण का इन्तज़ार.

द्रौपदी की लाज़
सुदामा की इज़्जत
सरे आम लगती बोली
रोज चौराहों पर
कृष्ण नहीं हैं कहीं।

कॄष्ण ने तब भी नहीं दिया था
साथ
अभिमन्यु का
मत करो
उसका इन्तजार।

चाहिए अब
एक नहीं
सात-सात अभिमन्यु.

एक साथ एकजुट
टूटेगा चक्रव्यहू,
चाहिए
समग्र चेतना
नव नेतृत्व ,
अपने सामर्थ्य पर
विजयी होगा अभिमन्यु
अब इस बार।

17 comments:

surabhi said...

gadadi par aasin
jaasangh ...
bahut khubsurar andaz me aaj ko
mahabharat ke samay se joda hai aapne sahi baat kahi hai.
par aaj bhi
abhimanyu,v arjun ki jarurat hai samaj ko

Keerti Vaidya said...

Very true words...

apko padhti to bhut kuch sochney lagti hun..

pragati "pragsavee" said...

Raam ji,
main copy karne ke liye koi pankti dhoondh rahi thi..par mujhe samajh nahin aaya koun si pankti vishesh loon comment karne liye..sabhi to shreshtha hain..bahut achha likha hai..

Manoshi Chatterjee said...

Jayati ne aapke blog ka naam suggest kiya. acchi kavita. aapki aur kavitaayein padhne ke ichhuk hoon.

sunita (shanoo) said...

राम जी आपको नया साल बहुत-बहुत मुबारक हो...

प्रभाकर पाण्डेय said...

सुंदर। अति सुंदर। यथार्थ रचना।

vikasgoyal said...

bAHUT ACHHA LIKHA HAI RAMJI, KAI BAAR AAPKA BLOG PADHA HAI PAR COMMENT AAJ PEHLI BAAR CHHOD RAHAA HOON

Poonam Agrawal said...

Vijayee hogaa Abhimanyu is baar.
Nayee soch kee parichayak hai ye panktiya.
Na karnaa intjar Krishna ka
bas savayam karm karo.
very well said.

रश्मि प्रभा said...

कॄष्ण ने तब भी नहीं दिया था
साथ
अभिमन्यु का
मत करो
उसका इन्तजार। बहुत ही साकार रोष है
गहरे भाव हैं

vasundhara said...

Beautiful..though all of your kavitas are beautiful.But"vijayihoga.."ne to jhakjhor kar rakh diya.i am impressed doc.

Amma said...

द्रौपदी की लाज़
सुदामा की इज़्जत
सरे आम लगती बोली
रोज चौराहों पर
कृष्ण नहीं हैं कहीं।...........

आओ करें अभिमन्यु का इंतज़ार........
कलम मैं ताकत हैं बेटा

ram said...

कॄष्ण ने तब भी नहीं दिया था
साथ
अभिमन्यु का
मत करो
उसका इन्तजार। बहुत ही साकार रोष है
गहरे भाव हैं

vastav mai dil mi utar gyeee

Akshaya-mann said...

द्रौपदी की लाज़
सुदामा की इज़्जत
सरे आम लगती बोली
रोज चौराहों पर
कृष्ण नहीं हैं कहीं।
shabd nahi nikalte andar se is bhav ko prakat karne ke liye jhanjhor ke rakh diya is rachna ne......

Advocate Rashmi saurana said...

sach baat. sundar.

Anonymous said...

kisi bhi yug mein abhimanyu krishna ka rasta nai dekhta tha wo apni zindagi jiya apni maut mara sabka samna karte hue is liye aaj bhi pandav se zyada hum abhimanyu ka hi udaharan lete hain zindagi jeene mein aue seekhne mein.

do line mein hi aap ki kavita bahut kuch keh jati hai.neha

tarun said...

bahut hi achhi kavita hai .. keep writing.

-tarun
(http://tarun-world.blogspot.com/)

Dr Rajesh Garg said...

Dear Dr Giri,

superb writing..... my best wishes...AAp ki kavitaoun ko phad kar do panktiyan yaad aati hain..
"Na jaane kin majburiyoun mein bandhe hue the log,
Har koi chahta tha , magar koi bolta na tha".....

You have given the voice to the current social and poitical situation....Kudos to you !!